Thursday, October 4, 2018

न्यूटन के गति नियम, Newton's laws of motion in hindi

Newton ke gati ke niyam

न्यूटन के गति नियम(Newton's laws of motion):

 भौतिकी के पिता कहे जाने वाली न्यूटन ने सन 1687 ई में अपनी पुस्तक 'प्रिंसिपिया' में सबसे पहले गति के नियमो को प्रतिपादित किया था।

न्यूटन का प्रथम गति नियम(Newton's first law of motion):

 न्यूटन की गति के प्रथम नियम के अनुसार यदि कोई वस्तु विरामावस्था में है तो वह विरामावस्था में गई रहेगी, ओर यदि एक समान चाल से चल रही है तो वह एकसमान चाल से चलती रहेगी जब तक उस पर कोई वाह्य बल लगाकर उसकी वर्तमान अवस्था मे परिवर्तन न किया जाए।
● प्रथम नियम से बल की परिभाषा मिलती है।
बल- बल वह बाह्य कारक होता है। जो किसी वस्तु की प्रारंभिक अवस्था मे परिवर्तन कर देता है। या परिवर्तन करने की कोशिश करता है। यह एक सदिश राशि है। इसका  S.I मात्रक न्यूटन होता है।
● प्रथम नियम को गैलीलियो का नियम या जड़त्व का नियम भी कहते है।
जड़त्व- बाह्य बल के विरोध में किसी वस्तु की अपनी विरामावस्था या एकसमान गति की अवस्था को बनाये रखने की प्रवृत्ति को जड़त्व कहते है।
जड़त्व के कुछ उदाहरण:- 
1. रुकी हुई रेलगाड़ी या मोटरकार के अचानक चलने पर उसमे बैठे यात्री पीछे की ओर झुक जाते है।
2. कम्बल को डंडे से पीटने पर धूल के कण झड़ कर नीचे गिर जाते है।
3. चलती हुई मोटरकार के अचानक रुक जाने पर उसमे बैठे यात्री आगे की ओर झुक जाते है।
संवेग: किसी वस्तु के द्रव्यमान तथा वेग के गुणनफल को संवेग कहते है। इसका S.I  मात्रक Kg. m/sec  होता है
                संवेग = द्रव्यमान×वेग

न्यूटन का द्वितीय गति नियम (Newton's second law of motion):

 किसी वस्तु के संवेग परिवर्तन की दर उस वस्तु पर आरोपित बल के समानुपाती होता है। तथा संवेग परिवर्तन सदैव बल की दिशा में होता गई। न्यूटन के द्वितीय गति नियम से बल का व्यंजक मिलता है। यदि आरोपित बल F, बल की दिशा में उत्त्पन्न त्वरण a, तथा वस्तु का द्रव्यमान m हो, तो न्यूटन के द्वितीय गति नियम से-
                          F=ma

न्यूटन का तृतीय गति नियम (Newton's third law of motion):

 इस नियम के अनुसार प्रत्येक क्रिया के बराबर परन्तु विपरीत प्रतिक्रिया होती है। जैसे- 1. बंदूक से गोली चलाने पर, चलाने वाले को पीछे की ओर झटका लगता है। 2. नाव से किनारे पर कूदने पर नाव का पीछे की ओर हट जाना। 2. रॉकेट को उड़ाने में।

  

0 comments: