Sunday, October 21, 2018

रक्त क्या है, what is blood in hindi

What is blood,blood in hindi, blood definition
सामान्य लक्षण:

● रक्त एक तरल संयोजी ऊतक होता है।
● रक्त क्षारीय होता है, इसका ph मान 7.4 होता है।
● मानव शरीर मे रक्त की मात्रा शरीर के भर के 7%-10%     होती है।
● वयस्क पुरुष में लगभग 5-6 लीटर रक्त होता है। तथा महिला में पुरुष से 1/2 लीटर कम रक्त होता है।
● रक्त में 2 प्रकार के पदार्थ पाए जाते है- (1) प्लाज्मा (2) रक्त कोशिकाएं
● प्लाज्मा की मात्रा रक्त में 55% होती है, तथा शेष 45% रक्त कोशिकाएं पायी जाती है।
● प्लाज्मा में 90% पानी होता है तथा 10% अन्य पदार्थ होते है।
● प्लाज्मा में फैब्रिनोजिन नामक प्रोटीन होता है जो रक्त का थक्का जमने में मदद करता है।

रक्त कोशिकाएं:

इन्हें तीन भागों में बांटा गया है- लाल रक्त कोशिकाएं (RBC) , श्वेत रक्त कोशिकाएं(WBC), प्लेटलेट्स(platelets)

लाल रक्त कोशिकाएं(RBC):

● RBC का वैज्ञानिक नाम एंथ्रोसाइट है।
● ये रक्त में सबसे ज्यादा होती है।
● इसमे हीमोग्लोबिन नामक प्रोटीन पाया जाता है जिसके कारण रक्त का रंग लाल होता है।
● इनका कार्य शरीर ने O2 तथा CO2 का परिवहन करना होता है।
● इनमे केन्द्रक नही पाया जाता है।
● RBC की कमी से एनीमिया तथा पीलिया रोग हो जाते है।
● RBC का निर्माण अस्थिमज्जा में होता है।
● इनका जीवनकाल 20-120 दिन होता है।
● इनकी मृत्यु प्लीहा में होती है। प्लीहा को RBC का कब्रिस्तान तथा शरीर का ब्लड बैंक भी कहा जाता है।

श्वेत रक्त कोशिकाएं (WBC):

● इनका वैज्ञानिक नाम ल्यूकोसाइट्स है।
● इसमे रंजक नही पाया जाता है जिसके कारण इनका रंग सफेद होता है।
● इनमे केन्द्रक पाया जाता है।
● इनका कार्य एंटीबॉडी बनाना, इंफेक्शन से लड़ना तथा Disease से body को बचाना।
● इनका निर्माण अस्थिमज्जा में होता है तथा इनकी मृत्यु रक्त में ही हो जाती है।
● इनका जीवनकाल 2-4 दिन होता है।
● WBC 2 प्रकार की होती है-
   लिम्फोसाइट्स- बीमारी से बचाती है।
   मोनोसाइट- घाव भरने में मदद करती है।
● जब रक्त में WBC की कमी हो जाती है तो इसे ल्यूकोपिनिया कहा जाता है तथा जब रक्त में WBC की मात्रा अधिक हो जाती है तो ल्यूकेमिया कहा जाता है।
● विटामिन A WBC को बढ़ाता है।

प्लेटलेट्स(Platelets):

● इनका वैज्ञानिक नाम थ्रोम्बोसाइट है।
● इनका निर्माण भी अस्थिमज्जा मेही होता है तथा मृत्यु रक्त में ही हो जाती है।
● ये रक्त का थक्का बनाने में सहायता करती है।
● डेंगू वायरस प्लेटलेट्स को नष्ट कर देता है। डेंगू एडीज मच्छर के काटने से होता है।
● शरीर मे हिपेरिन नामक प्रोटीन के कारण ही खून नही जमता है।
● इनका जीवनकाल 3 से 5 दिन का होता है।

2 comments:

  1. Great Sir Ji. I started my educational blog because of you check out
    https://www.bedguide.in/

    ReplyDelete